हाथों का भी रखें खयाल

20  अगस्त

देखने में आता है कि महिलाएं अकसर केवल चेहरे की ही देखभाल करती हैं जबकि महिलाओं को चेहरे के साथ-साथ हाथों का भी उतना ध्यान रखना चाहिए जितना चेहरे का। महिलाएं चेहरे के लिए कई रणनीतियां बनाती है जैसे एंटीएजिंग क्रीम, फैसियल, ब्लीच अौर भी अन्य। लेकिन हाथों पर नजर अंदाज कर देती है, जबकि हाथों में रोजमर्रा के काम का खराब असर पड़ता है। इन हाथों पर धूप, साबुन, हैंड सैनिटाइजर्स के साथ हर दिन के वीअर एंड टीअर का भी असर होता है। हाथों की देखभाल के साथ इनकों भी दर्शनीय बनाना चाहिए। सबसे पहले यह पहचानना जरूरी है कि समस्या कहां पर हैं। दिन भर हाथ असंख्यबार धोए जाते हैं इस वजह से हाथ सूखने लगते हैं। हाथों की स्किन का मॉइश्चर सिंक के नल के नीचे बह जाता है। सूखी चमड़ी पर झुर्रिंया पड़ने लगती है। मॉइश्चर का इस्तेमाल नहीं करने से खुश्क त्वचा चटकती है और खुजली होने लगती है। हाथों की स्कीन पर धूप का विपरीत प्रभाव पड़ता है। सूरज की किरणें पहले से नाजुट स्कीन को सख्त कर देती हैं। धूप से चमड़ी का कोलाजेन तथा लचीलापन खत्म हो जाता है। उम्र बढ़ने के साथ हाथों स वसा भी कम होती जाती है। और वसा कम होने से नसों के आसपास जो कुशन जैसा जमावड़ा होता है वह घटने लगता है।

जरूरी बातें

- जितनी बार हाथों को पानी से धोएं उतनी ही बार मॉइश्चराईजर का इस्तेमाल करें। लोशन की जगह कोई क्रीम का इस्तेमाल करें। याद रखें कि जो क्रीम चेहरे पर लगा रहे हैं उसी क्रीम को हाथों पर भी मलनी है।

- घर में रहने पर 4 घंटे के अंतराल पर सनस्क्रीन जरूर लगाएं।

- सुबह सनस्क्रीन के साथ कोई एंटीऑक्सीडेंट्स युक्त क्रीम लगाएं और रात में रेटिनॉल या ट्रेटिनॉल लगा कर सोंएं।

- हाथों की देखभाल चेहरे की तरह ही करना चाहिए। और हां नाखूनों को भी स्वस्थ रखना शामिल हैं।

- हाथों में वसा को वापस लाने के लिए त्वचारोग विशेषज्ञ की राय से क्रीम का इस्तेमाल करें।

 

Total votes: 191