संजने संवरने में बचें केमिकल इंफेक्शन्स से

13  अगस्त

प्रकृति ने इंसान को अपनी अनूठी पहचान के लिए एक चेहरा दिया है जिसका रंग, रूप, अाकार अलग-अलग हो सकते हैं। इंसान के पास चेहरे को संवारने व सुदंर बनाने के लिए साधन विभिन्न हो सकते है। पर क्या इस तरह के सभी साधन स्वास्थ्य के लिए भी सुरक्षित है? आइए जानते हैं।

कई रिसर्च व विशेषज्ञ भी इस बात की पुष्टि कर चुके हैं कि रोजाना उपयोग में किए जाने वाले कई सारे कॉस्मेटिक्स छोटे नुकसान से लेकर कभी तो गंभीर पीड़ा तक पहुंचा सकते हैं। इनमें चेहरे की त्वचा पर होने वाले इंफेक्शन व घावों से लेकर कई तरह के कैंसर व कई अंगों को पहुंचाने वाली क्षति और यहां तक कि कई तरह के बर्थ डिफेक्ट्स भी शामिल हैं। गुणवत्ताहीन मेकअप या प्रोडक्ट्स त्वचा को खुलकर सांस लेने से रोक सकते हैं व त्वचा के भीतर संक्रमण या बैक्टीरिया के हमले को आमंत्रण दे सकते हैं।

ऐसे रसायन जो पहुंचाते हैं नुकसान

- कुछ फाउंडेशन में उपयोग किए जाने वाला ऑक्सीबेंजोन भी वैसे तो यूवी किरणों से बचाव में मददगार होता है पर कुछ केसेस में एलर्जिक रिएक्शन पैदा करने का कारण बन सकता है।

- लिपिस्टिक में आवश्यकता से अधिक मात्रा में मौजूद लेड दिमान को क्षति पहुंचाने के साथ ही असामान्य व्यवहार का भी कारण बन सकता है। और इसमें मौजूद कई अन्य तत्व स्किन के रोमछिद्रों को बंद कर नुकसान पहुंचा सकते है।

- न्यूरोटॉक्सिक पावडर में मौजूद रेटिनाएल पैल्मिटेट कैंसर को आमंत्रण दे सकता है। यही नहीं इस तरह के पावडर में मौजूद रंगों में एल्युमिनियम, बेरियम जैसे मेटल भारी मात्रा में उपयोग में लाने पर घातक सिद्ध हो सकते हैं।

- इसलिए जरूरी है कि मेकअप या कॉस्मेटिक्स के प्रयोग को लेकर सावधानी रखी जाए। खासतौर पर यदि आपकी स्किन सेंसेटिव है तो। सामग्री की गुणवत्ता का भी ध्यान रखें।

 

 

Total votes: 284